भारत में अब तक कोरोना वायरस फंड में जो डोनेशन दी गई है,  वो इस प्रकार है :-
April 17, 2020 • Sachin Kumar

भारत में अब तक कोरोना वायरस फंड में जो डोनेशन दी गई है,  वो इस प्रकार है :-

टाटा ग्रुप : 1500 करोड़,

आर्मी : 500 करोड़,

 रिलायंस ग्रुप  : 500 करोड़

इंडियन ऑयल गैस कंपनी : 500 करोड़

आई टी सी : 150 करोड़

अल्केम लैब: 7 करोड़

 हिंदुस्तान यूनिलीवर : 100 करोड़

अनिल अग्रवाल (वेदांता) : 100  करोड़

हीरो साइकिल्स : 100 करोड़

बजाज ग्रुप : 100 करोड़

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड : 51 करोड़

सी आर पी एफ : 33 करोड़ 81 लाख

अक्षय कुमार : 25 करोड़

बाबा रामदेव : 25 करोड़

सन फार्मा : 25 करोड़

ओला : 20 करोड़

Paytm : 5 करोड़ + हैंडवाश

मुकेश अंबानी : 5 करोड़ + हॉस्पिटल

आनंद महिंद्रा : होटल्स + वेंटिलेटर

प्रभाष : 4 करोड़

 राजेश अग्राहरी (राजेश मसाला गुप्र,  : 2 करोड़ 30 लाख

अनुपमा नडेला  (माइक्रोसॉफ्ट) : 2  करोड़

अनीता डोंगरे : 1.5 करोड़

अल्लू अर्जुन : . 1.25 करोड़

राम चरण : 1.40 करोड़

पवन कल्याण : 1 करोड़

महेश बाबू : 1 करोड़

चिरंजीवी : 1 करोड़

हेमा मालिनी : 1 करोड़

बाला कृष्ण : 1 करोड़

जूनियर  NTR : 75 लाख

सुरेश रैना : 52 लाख

 सचिन तेंदुलकर : 52 लाख

सनी देओल : 50 लाख

कपिल शर्मा : 50 लाख

रजनी कान्त : 50 लाख

सौरभ गांगुली : 50 लाख

 श्यामा चरण गुप्ता (भूतपूर्व MP, इलाहाबाद) : 25 लाख

और अब भारत में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री आपदा राहत कोष में आपकी चहेती विदेशी कंपनियों का योगदान भी देख लीजिए  : -

जौमेटो : 00,

  सुवेगी : 00

 पिज़्ज़ा हट : 00

  डोमिनोज : 00

 मैकडोनाल्ड : 00

  बर्गर किंग : 00

    बरिस्ता : 00

बारबेक्यू नेशन : 00

  के एफ सी : 00

   फ्लिपकार्ट : 00
 
     अमेजॉन : 00,

     मिंत्रा : 00

    रेडिफ : 00

     स्नेपडील : 00

     हुंडई : 00

  बीएमडब्लू : 00

 अब तो आपको  समझ में आया होगा स्वदेशी का मतलब ?

 अगर अपने  देश की अर्थव्यवस्था फिर से ठीक करनी है तो

अब लॉक डाउन के खुलने के बाद सुई  से लेकर कार तक सब इंडिया की बनी हुई ही खरीदनी चाहिए

क्योंकि अगर ये भारत देश है तो हम भी हैं और अगर ये भारत देश नहीं तो हम भी नहीं ।

 

 

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳