बिजली मीटर की रीडिंग लेने अब आपके घर पर नहीं आएगा कोई! जानिए नए स्मार्ट मीटर के बारे में...
February 28, 2020 • Sachin Kumar

बिजली मीटर की रीडिंग लेने अब आपके घर पर नहीं आएगा कोई! जानिए नए स्मार्ट मीटर के बारे में...

नई दिल्ली. जल्द ही आपके घर पर भी बिजली का स्मार्ट मीटर लगने वाला है. सरकार ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है. नया मीटर लगने के बाद अगर तय अवधि तक बिजली का बिल जमा नहीं हुआ तो सप्लाई ऑटोमेटिक बंद हो जाएगी. बिल जमा करने पर दोबारा चालू हो जाएगी. किसी लाइन स्टॉफ को इसके लिए अतिरिक्त समय देना नहीं होगा. केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर के सिंह ने भारत सरकार के स्मार्ट मीटर नेशनल प्रोग्राम के तहत पूरे भारत में 10 लाख स्मार्ट मीटर लगाने की घोषणा है. उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और बिहार में पहले से ही काम कर रहे इन स्मार्ट मीटरों का उद्देश्य बिजली वितरण प्रणाली में और निपूर्ण बनना है. जिससे सेवाओं को बेहतर बनाया जा सके. विद्युत मंत्री ने इस अवसर पर स्मार्ट मीटर नेशनल प्रोग्राम, नेशनल इलेक्ट्रिक मोबिलिटी प्रोग्राम पहल कार्यक्रमों के डैशबोर्ड का भी शुभारंभ किया. इस डैश बोर्ड के जरिए कार्यक्रमों की प्रगति और इसके प्रभाव की निगरानी की जा सकती है. इसके अलावा एक मोबाइल एप्लिकेशन - ईके ईईएसएल- का भी शुभारंभ किया गया है.

आपको बता दें कि मोबाइल की तरह पोस्टपेड, प्रीपेड दोनों सुविधाएं रहेंगी, उपभोक्ता 50 रुपये से लेकर खपत तक अमाउंट का रिचार्ज करवा सकते हैं. जितना रिचार्ज उतनी ही बिजली मिलेगी. अगला रिचार्ज कराने पर पीछे वाला बचा रिचार्ज आगे ऐड हो जाएगा. जरूरत न होने पर मीटर बंद भी करा सकते हैं. तय चार्ज के हिसाब से एकमुश्त या किश्त में भुगतान करना होगा. इससे बिजली चोरी, लोड सिस्टम, बिल मिलना भरना आदि झंझट से मुक्ति मिल जाएगी

राष्ट्रीय इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के बारे में बताते हुए मंत्री ने बताया कि ईईएसएल द्वारा शुरू किए गए इलेक्ट्रिक वाहन अब तक 2 करोड़ किलोमीटर चल चुके हैं.

ईईएसएल ने लगभग 12 महीनों में 10.6 मिलियन स्ट्रीट लाइटों को बदल दिया है. इसके माध्‍यम से 36 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किए गए.

ईईएसएल ने सभी के लिए किफायती एलईडी बल्ब और स्ट्रीट लाइटों की उपलब्‍धता के जरिए सरकार के उजाला ओर उन्‍नत ज्‍योति कार्यक्रम का कुशल नेतृत्‍व किया है.

*स्मार्ट मीटर से क्या होगा*

- घर में बिजली का तय लोड से ज्यादा हुआ तो बिजली सप्लाई तत्काल बंद हो जाएगी. लोड वापस नियंत्रण हुआ तो सप्लाई फिर चालू होगी. ओवरलोड नहीं होगा.

- किस ट्रांसफार्मर से कितनी बिजली भेजी गई. कहां कितनी खपत हुई. इस सब बातों का एनर्जी ऑडिट होगा.

- बिल तय अवधि तक नहीं जमा हुआ तो सप्लाई ऑटोमेटिक बंद हो जाएगी. बिल जमा करने पर दोबारा चालू हो जाएगी. किसी लाइन स्टॉफ को इसके लिए अतिरिक्त समय देना नहीं होगा.

- रीडिंग लेने कोई नहीं आएगा. हर पल की रीडिंग बिजली कंपनी दफ्तर से ही रियल टाइम देख पाएगी. उसी के आधार पर बिल तैयार होगा.

- बिजली का बिल एडवांस जमा करने वालों के लिए प्री-पेड की सुविधा भी मीटर में होगी. इससे घर बंद होने की स्थिति बेवजह बिजली बिल का भुगतान नहीं करना पड़ेगा.