एक बार  फिर ममता हुई शर्मसार , दुधमुंही बच्ची को कूड़े के ढ़ेर में फेंका
February 23, 2020 • Sachin Kumar

 एक बार  फिर ममता हुई शर्मसार , दुधमुंही बच्ची को कूड़े के ढ़ेर में फेंका

 


_*हरदोई* कहते है कि मां ममता की प्रतिमूर्ति होती है। मां अपने बच्चों की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। लेकिन उसके इतर शुक्रवार को पचदेवरा थाना क्षेत्र के लखनौर गांव में देंखने को मिला। एक दुधमुंही बच्ची को कलयुगी मां ने कूड़े के ढेर में ढेर में डालकर ममता को एकबार तार तार कर दिया। नवजात बच्ची की रोने की आवाज सुनकर गांव की महिला ने मासूम को अपने घर लेजाकर पुलिस को सूचना दी। लखनौर गांव निवासी रामरतन की पत्नी गिरिजावती शौच के लिए गई थी। उसी दौरान उसके घर के पीछे कूड़े के ढेर से एक बच्ची की रोने की आवाज़ सुनाई दी तो उसकी पत्नी ने कूड़े के पास जाकर देखा तो उसे वहां एक नवजात बच्ची रोते हुए मिली। तो उसने आस पास के लोगों को मासूम बच्ची की जानकारी दी। ग्रामीणों ने बच्ची को उठाकर उस निर्दयी मां को जमकर कोसा। जिसने दुधमुंही मासूम बच्ची को कूड़े के ढेर में डालकर ममता को शर्मसार करने पर मजबूर कर दिया। ग्रामीणों के मुताबिक जिस मां को औलाद की कदर नही ऐसी मां को ईश्वर औलाद न देकर जीवन भर बांझ रखे। ग्रामीणों ने बताया कि बच्ची को देखकर ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह एक या दो दिन की ही होगी। भगवान का शुक्र है कि बच्ची किसी जानवर की चपेट में नही आई। फिलहाल मासूम को सीमा गुप्ता पत्नी आशीष गुप्ता अपने घर ले गयी। और तुरंत पचदेवरा पुलिस को पूरे मामले की सूचना दी। पचदेवरा एसओ अशोक कुमार ने बताया कि बच्ची को सीएचसी शाहबाद भेज दिया है। चाइल्ड हेल्प लाइन को भी सूचना दे दी गयी है। उन्होंने बताया पुलिस नवजात लड़की के मां-बाप की तलाश कर बच्ची को कूड़े के ढेर में फेकने की बजह तलाशने का भी प्रयास कर रही है_