मलूक नागर, माननीय सांसद, बिजनौर लोक सभा क्षेत्र ने पत्र लिख कर अपनी सांसद निधि से उत्तर प्रदेश व बिजनौर लोक सभा क्षेत्र के  सभी कोरोना  वायरस से पीड़ितों की सहायता के लिए सवा करोड़ रुपए (1,25,00,000/- रुपए) की धनराशि सहायता के रूप में दिया है।
April 3, 2020 • Sachin Kumar

श्री मलूक नागर, माननीय सांसद, बिजनौर लोक सभा क्षेत्र ने पत्र लिख कर अपनी सांसद निधि से उत्तर प्रदेश व बिजनौर लोक सभा क्षेत्र के  सभी कोरोना  वायरस से पीड़ितों की सहायता के लिए सवा करोड़ रुपए (1,25,00,000/- रुपए) की धनराशि सहायता के रूप में दिया है। इसके साथ ही साथ माननीय सांसद जी ने कहा है कि यदि मेरे संसदीय क्षेत्र बिजनौर के अंतर्गत आने वाले तीनों जिलों (जिला बिजनौर के अंतर्गत विधान सभा बिजनौर व विधानसभा चांदपुर, जिला मेरठ के अंतर्गत विधान सभा हस्तिनापुर व जिला मुज़फ़्फ़रनगर के अंतर्गत विधान सभा मीरापुर व विधान सभा पुरकाजी) में कोरोना बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति की, ऊपरवाला ना करे कि किसी के साथ कोई घटना घट जाए लेकिन अगर कोई ऐसी घटना घटती है और परिवार में किसी के जान का नुकसान होता है, तो उनके आश्रितों/परिवारवालों को व्यक्तिगत तौर पर प्रति परिवार 50,000/- (पचास हज़ार ) रुपए की धनराशि की मदद करूँगा। जो मेरे द्वारा व्यक्तिगत रूप से दी जाने वाली राशि पूरे लोक सभा क्षेत्र में कुल अधिकतम 25,00,000/- रुपए (पचीस लाख रुपए मात्र) होगी। इसके लिये माननीय सांसद जी ने जिलाधिकारी बिजनौर को पत्र लिख कर बिजनौर जिले की-विधान सभा बिजनौर व विधान सभा चाँदपुर का डाटा व मुज़फ़्फ़रनगर के जिलाधिकारी से पुरकाजी एवं मिरापुर विधान सभा का डाटा व मेरठ के जिलाधिकारी से हस्तिनापुर विधान सभा का कोरोना पीड़ितों का डाटा तुरंत उपलब्ध कराने को कहा है। जिससे माननीय सांसद जी द्वारा सम्बंधित परिवार की व्यक्तिगत स्तर पर मदद तुरंत किया जा सकें।

माननीय सांसद जी ने इस महामारी से बचाव कार्य में लगे सभी लोगों व सभी क्षेत्रवासियों के लिए उपरवाले से मंगल कामना करते हुए कहा कि इस संकट की घड़ी में किसी को कोई भी परेशानी नहीं होनी चाहिए। इस महामारी से निपटने के लिए स्थानीय स्तर पर पूर्ण व्यवस्था हो सके और किसी को भी असुविधा न हो, इसको सूनिश्चित करने के लिए जिलाधिकारी बिजनौर से आग्रह किया है।


संलग्नक: 1.माननीय सांसद महोदय जी द्वारा जिलाधिकारी को लिखे गये पत्र की प्रतिलिपि
2. अध्यक्ष, एमपीलैड्स समिति, संसद भवन, नई दिल्ली को लिखे पत्र की छायाप्रति।