न कलम बिकता है, न कलमकार बिकता है।
March 26, 2020 • Sachin Kumar

न कलम बिकता है,
न कलमकार बिकता है।

पत्र बिकता है,
न पत्रकार बिकता है ।
दिन रात लिख-लिखकर थक जाती है ये उँगलियाँ ,

तब जाके कहीं सुबह 2 रुपये का अखबार बिकता है ।।।
सचिन भारती