नई दिल्ली. कोरोना वायरस संकट (Coronavirus Crisis) के मद्देनजर मांग घटने से कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमत सोमवार को शून्य डॉलर/बैरल से भी नीचे चली गई क्योंकि  कोई व्यापारी फिलहाल कच्चा तेल खरीदकर उसे अपने पास रखने की स्थिति में नहीं है. इसे लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सरकार पर निशाना साधा है.
April 22, 2020 • Sachin Kumar

नई दिल्ली. कोरोना वायरस संकट (Coronavirus Crisis) के मद्देनजर मांग घटने से कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमत सोमवार को शून्य डॉलर/बैरल से भी नीचे चली गई क्योंकि  कोई व्यापारी फिलहाल कच्चा तेल खरीदकर उसे अपने पास रखने की स्थिति में नहीं है. इसे लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने कहा है कि दुनिया भर में तेल की कीमतें इतनी गिर चुकी हैं फिर भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी क्यों नहीं आई है.
राहुल गांधी का सरकार पर निशाना, कहा- कच्चे तेल के दाम में इतनी गिरावट तो फिर भारत में पेट्रोल के दाम 69 रुपये क्यों
दुनिया में कोविड-19 (Covid-19) के चलते बनी स्थिति के बीच मांग घटने से कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमत सोमवार को शून्य डॉलर/बैरल से भी नीचे चली गई क्योंकि कोई व्यापारी फिलहाल कच्चा तेल खरीदकर उसे अपने पास रखने की स्थिति में नहीं है. इसे लेकर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सरकार पर निशाना साधा है.
राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि- दुनिया में कच्चे तेल की क़ीमतें अप्रत्याशित आँकड़ो पे आ गिरी हैं, फिर भी हमारे देश में पेट्रोल ₹69, डीज़ल ₹62 प्रति लीटर क्यों? इस विपदा में जो दाम घटे, सो अच्छा. कब सुनेगी ये सरकार?

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि सरकार को आम उपभोक्ताओं को राहत प्रदान करनी चाहिए. खेड़ा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘तेल के दामों में अचानक अप्रत्याशित कमी का आना एक ऐतिहासिक मौका है. इतनी कमी कि वह शून्य से भी नीचे जा पहुंचा. एक बार तो ऐसा क्षण आया कि दाम शून्य से 37 डॉलर नीचे चला गया. इसका कारण है कि अमेरिका में इस कच्चे तेल का कोई खरीददार नहीं हैं.