पाकिस्तान पीएम इमरान खान के सामने लाइव शो पर रो पड़े मौलाना, कहा-कोरोना से बचा ले अल्लाह
April 25, 2020 • Sachin Kumar

पाकिस्तान पीएम इमरान खान के सामने लाइव शो पर रो पड़े मौलाना, कहा-कोरोना से बचा ले अल्लाह

लाहौर,25 अप्रैल। 
दुनियाभर में लोग प्रार्थना कर रहे हैं कि भगवान कोरोना से मुक्ति दिलाओ। पाकिस्तान में भी दुआओं का दौर जारी है। इस बीच, वहां एक मौलाना लाइव शो पर कोरोना के लिए अल्लाह से माफी मांगते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान के सामने रो पड़े। मौलाना के रोने का वीडियो वायरल हो गया है।

पाकिस्तान की पत्रकार नायला इनायत ने अपने ट्विटर हैंडल पर करीब एक मिनट की एक वीडियो फुटेज साझा की है। जिसमें तबलीगी जमात से जुड़े मौलाना तारिक जमील उस वक्त फूट-फूटकर रोते नजर आए, जब वह कोरोना पर कुछ बोल रहे थे। मौलाना को इमरान खान का करीबी बताया जाता है। 

लाइव शो पर दुआ मांगते हुए मौलाना बोले-‘कोरोना से बचा ले अल्लाह। हम सब नासमझ हैं। हमें माफ कर दो। हमसे गलती हो गई। हम इस आफत को टाल नहीं सकते। अब तेरा ही सहारा है। जिंदगी और मौत तेरे हाथ में है।’ यह बोलते-बोलते मौलाना फफक कर रो पड़े। कार्यक्रम से लाइव जुड़े हुए इमरान, मौलाना की बात बड़े ध्यान से सुन रहे थे और वे एवं उनके अन्य साथी हाथ उठाकर एवं बड़े भावुक होकर दुआ मांगते देखे गए।

आतंकियों को पकड़ने की तकनीक से कोरोना संदिग्ध पकड़ रही इमरान सरकार
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक चौंकाने वाले खुलासे में कहा है कि उनकी सरकार कोरोना संदिग्धों की तलाश में उस तकनीक का इस्तेमाल कर रही है जिसका इस्तेमाल आतंकवादियों की तलाश में किया जाता रहा है। 

पाकिस्तान में कोरोना महामारी से निपटने के लिए फंड जुटाने की मुहिम 'अहसास टेलीथॉन' में इमरान ने टीवी पर देशवासियों के सामने कहा कि उनकी सरकार खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) की उस तकनीक का सहारा कोरोना के संदिग्ध मरीजों की तलाश में कर रही है जिसका उपयोग एजेंसियां आतंकियों को पकड़ने के लिए करती हैं।

देश में कोरोना से लड़ने के लिए कोष जुटाने के इस टेलीथॉन में इमरान के साथ-साथ देश के विख्यात कारोबारियों, क्रिकेट व अन्य खेलों के खिलाड़ियों, अभिनताओं, अभिनेत्रियों, गायक-गायिकाओं ने हिस्सा लिया। इमरान ने इसमें पत्रकारों व कार्यक्रम में कॉल करने वाले आम लोगों के सवालों का जवाब दिया। इमरान ने कहा कि देश के सामने बहुत कठिन आर्थिक हालात आने वाले हैं। इससे सभी को एकजुट होकर लड़ना होगा। 

उन्होंने एक बार फिर 'संपूर्ण लॉकडाउन' से असहमति जताते हुए कहा कि कोई भी फैसला लेने से पहले हमें करोड़ों गरीबों के बारे में भी सोचना चाहिए जो रोज कमाकर जीवन यापन करते हैं।