संविधान कहता है जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी हिस्सेदारी
April 17, 2020 • Sachin Kumar

संविधान कहता है जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी हिस्सेदारी
----------–----
आज भारत में शासन /प्रशासन में हिस्सेदारी
वर्ग---जनसंख्या---हिस्सेदारी
SC---   15%    ---  11.9%
ST-----  7.5%  ----  4.3%
OBC--  52%   ----- 5.2%
MINO-10.5%  ----1.5%
-----------------------------------
Total-- 85%    ---- 21%
-----------------------------------
ब्राह्मण- 3.5% है और  79%  रिजर्वेशन लेकर रखा है।
       ब्राह्मणों के विरोध में कोई भी SC, ST, OBC का व्यक्ति विद्रोह ना करे और आंदोलन नहीं करे इसलिए SC ST OBC को कहते हैं कि मुसलमान तुम्हारा दुश्मन है।
  मैं एक सवाल पूछता हूँ कि-
 1:क्या मुसलमान ने वर्ण व्यवस्था बनाई ?
 2: क्या मुसलमान ने जाति व्यवस्था बनाई ?
 3: क्या मुसलमान ने ऊंच नीचता बनाई ?
 4: क्या मुसलमान ने अछूत   बनाया ?
 5: क्या मुसलमान ने स्त्री दासता लाई ?
 6: क्या मुसलमान ने आदिवासी का अलगीकरण किया ?
 7: क्या मुसलमान ने आरक्षण का विरोध किया?
 8: क्या मुसलमान ने SC ST ACT के विरोध में भारत बंद किया?
 9: क्या मुसलमान ने जंतर मंतर पर संविधान जलाया?
10: क्या मुसलमान ने OBC की जाति आधारित गिनती नही की?
11: OBC को आरक्षण नही मिलना चाहिये क्या इसके लिए मुसलमान ने उपवास धरना प्रदर्शन किया?
  इन सारे सवाल का जवाव है नहीं ....
इसलिये बाबा साहेब अंबेडकर ने कहा- शिक्षित बनो अर्थात अपने दोस्त और दुश्मन की पहचान करो और सारे SC ST OBC MINORITIES संगठित होकर संघर्ष करो ताकि सभी को संख्या के अनुपात में संवैधानिक हिस्सेदारी प्राप्त हो।